प्रियंका श्रीवास्तव

प्रियंका श्रीवास्तव

बुधवार, 19 दिसंबर 2012

डर या साहस !

माँ मेरी माँ  
मैं सबसे दूर बैठी 
अब टीवी नहीं देखती 
सबकी आवाजें 
मेरे कानों में 
गरम शीशे की तरह 
पिघल कर बह रही होती है।
अपनी उस बहन की 
चीखों , छटपटाने और संघर्ष करने के 
अथक प्रयास को 
महसूस कर  काँप जाती हूँ।
मैं भी तो 
इसी तरह से 
अँधेरा होने पर 
अन्दर ही अन्दर डरती हूँ 
मन में ईश्वर को याद करती 
तेज कदमों से 
अपने उस कमरे की तरफ 
बढती हूँ 
और फिर अन्दर कदम रखते ही 
झट से दरवाजा बंद कर 
बिस्तर पर ढेर हो जाती हूँ 
धन्यवाद देती हूँ 
उस ईश्वर  को 
मैं सुरक्षित हूँ और 
मेरी सारी  बहनों को 
वो सुरक्षित ही रखे। 
तुम्हें मुझपर भरोसा है 
मुझे खुद पर भरोसा है 
लेकिन माँ उसकी माँ को भी तो 
उस पर भरोसा था ,
फिर वो किसी के साए में थी 
सुरक्षा का अहसास लिए 
लेकिन 
फिर क्या हुआ माँ ?
आज वो झूल रही है 
जिन्दगी और मौत के बीच 
कोई रक्षा कवच दे दो माँ 
जिसके रहते 
ये नराधम 
भस्म हो जाए .
नज़रे उठाये किसी की तरफ तो 
राख  का ढेर हो जाएँ .
छूने की हिमाकत करें 
तो टूट कर उनके हाथ झूल जाएँ। 
एक ज्वाला निकले 
हमारी आँखों से 
वे किसी की अस्मिता को 
देखने से पहले अंधे हों जाए। 
न्याय हम अब मांगेगे नहीं 
खुद मरे तो उन्हें भी मार डालेंगे 
अब उन बहनों के जीवन 
के बदले नराधमों की जान ले जायेंगे .